योगी सरकार ने 6 महीनें पूरे किये, और रिपोर्ट कार्ड बनवाया पूर्वी सरकारों का

फोटो साभार: विकिपीडिया

प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपनी सरकार के 6 महीने पूरे होने पर पिछली सरकारों की खामियों पर एक श्वेतपत्र जारी किया
सूत्रों अनुसार, योगी सरकार ने 24 पेज का श्वेतपत्र तैयार किया है, जिसमें मायावती, मुलायम सिंह और अखिलेश यादव सरकार की 25 खामियां बयान की गयी हैं इसमें बड़ा हमला मायावती और अखिलेश पर है अखिलेश सरकार पर आरोप लगाया है कि उसमें भू माफियाओं को पनाह दी गयी, जेल अपराधियों की आरामगाह बन गये, किसान कर्जदार हो गये, गोमती रिवर फ्रंट बनाने में गड़बड़ी की, यूपी लोकसेवा आयोग की नौकरी में जातिवाद और भ्रष्टाचार चला, बिजली देने में भेदभाव किया, यश भारती पुरस्कार की बंदरबांट हुई और हर हफ्ते 2 दंगे हुए
वहीँ, श्वेतपत्र में मायावती के स्मारकों के बनाने में हुए घोटालों से लेकर एनआरएसएम घोटाले तक का ज़िक्र है इसमें कहा गया है कि मायावती सरकार में नोएडा और लखनऊ में स्मारक बनाने की लागत बनतेबनते 483 फीसदी बढ़ गई स्मारक बारबार बनाए और गिराए गये एनआरएचएम में बड़ा घोटाला हुआ 21 चीनी मिलें कौड़ियों के भाव बेच दीं कोटे का राशन बाज़ार में बिक गया और शराब का ठेका एक ही परिवार को दे दिया
हालांकि कुछ राजनीतिक विशेषज्ञों का कहना है कि आज जनता की दिलचस्पी इसमें नहीं है कि 14 साल पहले क्या हुआ, बल्कि इसमें है कि आज क्या हो रहा है और कल उसका भविष्य में क्या होगा और इस पत्र द्वारा योगी अपनी सरकार के दोश छुपाना चाहते हैं