योगी सरकार ने कानून व्यवस्था सुधारने के लिए यूपीकोका बिल दोबारा पारित कराया

साभार: योगी आदित्यनाथ/फेसबुक पेज

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार द्वारा विधानसभा में पेश किया गया उत्तर प्रदेश संगठित अपराध नियंत्रण अधिनियम (यूपीकोका) ध्वनिमत से पास हो गया है।
बिल पेश करने से पहले, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हम महाराष्ट्र के मकोका की तरह उत्तर प्रदेश में यूपीकोका लाने का प्रयास कर रहे हैं। सरकार प्रदेश में अपराधियों पर अंकुश लगाने के साथ प्रदेश में कानून व्यवस्था पटरी पर लाने का प्रयास कर रही है।
उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश देश का सबसे बड़ा प्रदेश है। कई राज्यों से हमारी सीमाएं मिलती हैं एक सीमा हमारी नेपाल से जुडती है इसलिए जरूरी है कि एक ऐसा कानून हो कि संगठित अपराधों को रोका जा सके। प्रदेश की पूरी जनता की सुरक्षा सभी जनप्रतिनिधियों का दायित्व है इसलिए यूपीकोका जरूरी है।
वहीँ, बिल के पेश होने पर विपक्षी पार्टियों ने इसका जम कर विरोध किया। उनका कहना था कि इस बिल की आड़ में गरीब, दलित और पिछड़ी जाति के लोगों के साथ अन्यायपूर्ण व्यवहार किया जायेगा। जिस तरह से पुलिस एनकाउंट में दलितों और पिछड़ी जातियों को जानबूझ कर अपना निशाना बना रही है वैसे ही यूपी कोका बिल आने के बाद, उन्हें फिर से निशाना बनाया जायेगा।
इसके अलावा, कुछ का कहना है कि सरकार अपने राजनीतिक विरोधियों का दमन करने के लिए इसे पारित कराना चाहती है।