योगी का फैसला सुनते ही बाँदा के किसान ने लगाई फांसी

जिला बांदा, ब्लाक बड़ोखरखुर्द, गांव मटौंध अप्रैल का मुख्यमंत्री किसानन के एक लाख कर्जा माफ़ करे का कहिन रहैं। यहिसे बड़े किसानन का हौसला टूट गा। कर्जा माफ़ करै के खबर सुन के किसान कुलदीप सिंह आत्महत्या कइ लिहिस है। वहिके ऊपर बैंक का 5 लाख का कर्जा रहा है।
कुलदीपसिंह का भतीजा निरंजन सिंह का कहब है कि घटना रात के आठ बजे भे है। हमार चाचा कर्जा के तनाव का लइके आपन साथी से बात करत रहै कि अब कसत होइ पैदावार कम है कर्ज भी ज्यादा है सरकार एक लाख कर्जा बस माफ़ करे का कहिस है 3 साल से सूखा के कारन 5 लाख का कर्जा होइ गा है। चाचा के लगे 28 बीघा जमीन रहि है।
कुलदीप सिंह के मेहरिया वीणा बताइस कि कर्जा बहुतै ज्यादा होइ गा रहै। ब्याज का जोड़े के बैंक का कर्जा तीन लाख रुपिया रहा है। गांव का कर्जा एक लाख रहा है। लड़कियन के पढ़ाई-लिखाई अउर घर का खर्चा बहुतै ज्यादा रहा है यहै कारन उंई आत्महत्या करिन हैं।
बड़ा भाई कामता सिंह बताइस कि कुलदीप हमसे कत्तौ कुछौ नहीं बतावत रहै। जबै सरकार का पता चला है कि सूखा के कारन फसल के पैदावार नहीं होत है,तौ सरकार बड़े किसानन का कर्ज काहे नहीं माफ़ करिन आय।
एस.डी.एम प्रहलाद सिंह का कहब है कि लाश के पोस्टमार्टम करा दीन गे है।नायब तहसीलदार से जांच कराई गें है अबै तक कर्जा का रिकार्ड नहीं मिला आय। जांच के बाद कारवाही कीन जई।

रिपोर्टर- गीता देवी और मीरा देवी

13/04/2017 को प्रकाशित