ये सफर बहुत है कठिन जब बाँदा से पन्ना के बीच नहीं चल रहीं सरकारी बसें

जिला बांदा, कस्बा बांदा हाइवे मा सड़क मा बने बड़े-बड़े बोर्ड मा लिखा रहत है कि यात्रा मंगलमय हो पै हेंया के मड़ई तौ परेशान है काहे से परिवहन विभाग  बांदा से पन्ना जायें वाली पांच बस बंद कइ दिहिस है जेहिसे मड़इन का प्राइवेट बस मा सफर करे का पड़त है। यहै कारन मड़इन का बहुतै परेशानी होत है। मड़ई दुबारा बस चलावै के मांग करिन है। जिला बांदा, कस्बा बांदा हाइवे मा सड़क मा बने बड़े-बड़े बोर्ड मा लिखा रहत है कि यात्रा मंगलमय हो पै हेंया के मड़ई तौ परेशान है काहे से परिवहन विभाग  बांदा से पन्ना जायें वाली पांच बस बंद कइ दिहिस है जेहिसे मड़इन का प्राइवेट बस मा सफर करे का पड़त है। यहै कारन मड़इन का बहुतै परेशानी होत है। मड़ई दुबारा बस चलावै के मांग करिन है।  मोहम्मद बताइस कि 28 अप्रैल 2008 का इं पांच बस चलाई गई रहै पै अब परिवहन विभाग के अधिकारी बंद कइ दिहिन है बस काहे बंद कइ दिहिन है अधिकारी या भी नहीं बतावत आहीं। गरीब जनता डग्गामार वाहन से परेशान है काहे से उंई ऊपर नीचे सगले सवारी ज्यादा भरत है अउर यात्रिन के साथै बत्तमीजी करत है। रामगोपाल अउर जुगुल किशोर बताइन कि रोडवेज बस वाले सवारिन का सीट मा बइठावत रहै अउर चल देत रहै।  पै प्राइवेट वाले बस का ज्यादा भरत है जेहिसे बहुतै भीड़ होइ जात है। यहिसे मेहरिया अउर बच्चन का बहुतै परेशानी होत है। परिवाहन विभाग के ए.आर.एम मोहम्मद अजीज का कहब है कि बसन के नम्बर बदलावे का रहै यहै कारन बिना परमिट के बस बंद पड़ी है 30 जून 2010 से 36 बस बंद पड़ी है। जेहिका चलावै खातिर 72 चालक 72 परिचालक होवै का चाही अबै चालक परिचालक नहीं आय। बहुतै जल्दी बस चलाई जइहैं।

रिपोर्टर-  गीता देवी

23/06/2017 को प्रकाशित