यूपी में शुरू हुआ एक जनपद-एक उत्पाद अभियान

साभार: विकीपीडिया

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आज स्थानीय इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग विभाग द्वारा आयोजित पहले ‘एक जनपद-एक उत्पाद’ (ओडीओपी) समिट का शुभारंभ किया।

इस मौके पर राष्ट्रपति के समक्ष लघु क्षेत्र के ख्याति प्राप्त कंपनियों अमेजन, क्वालिटी कंट्रोल ऑफ इंडिया (क्यूसीआई), एनएसई बीएससी और जीई हेल्थकेयर के प्रतिनिधियों व राज्य सरकार के बीच एमओयू पर हस्ताक्षर भी किए। इसके साथ समिट में 4084 लाभार्थियों को 1000 करोड़ से ज्यादा का ऋण वितरित किया जाएगा।

कार्यक्रम स्थल पर पहुंचने के बाद राष्ट्रपति सबसे पहले प्रदेश के सभी 75 जिलों से संबंधित प्रमुख उत्पादों की प्रदर्शनी देखी। राष्ट्रपति वहां मौजूद उद्यमियों से बातचीत भी की। राष्ट्रपति ओडीओपी कॉफी टेबल बुक के विमोचन साथ-साथ ओडीओपी वेबसाइट व टोलफ्री नंबर का शुभारंभ भी किया।

ओडी ओपी समिट में राज्य सरकार की ओर से 4084 लाख लाभार्थियों को 1006.94 करोड़ रुपये का ऋण वितरित किया जाना है। सरकार ने हर साल एक लाख लोगों को ओडीओपी योजना से जोड़ने का लक्ष्य निर्धारित किया है।

बताया जा रहा है कि इसके जरिए सरकार ने प्रदेश के सभी 75 जिलों में खास पहचान रखने वाले उत्पादों को प्रोत्साहित करने के लिए एक मंच देने की कोशिश है।

समिट के जरिए उद्यमियों को विपणन के लिए बेहतर बाजार, तकनीक एवं गुणवत्ता में सुधार लाने के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी मिलेगी। प्रदेश में इस समय 8900 करोड़ रुपये के उत्पाद का ही निर्यात होता है, जिसे बढ़ाकर 2 लाख करोड़ करने का लक्ष्य रखा गया है।