मौत के बाद मौत

कैण्डील मार्च में शामिल जनता
कैण्डील मार्च में शामिल जनता

जिला सीतामढ़ी में 31 दिसम्बर 2014 के रात नौ बजे नवीन मेडिकल हाॅल के मालिक पचास वर्षीय यतीन्द्र खेतान के गोली मार के हत्या कयल गेलई। उहां के लोग सब कहलथिन कि इ हत्या के मेन कारण रंगदारी न देवे पर होलई। हत्या के विरोध में दु दिन शहर में सारा दुकान, अस्पताल बंद रहई। जिला के आस-पास के प्रखण्ड में भी दवा दुकानदार बंदी कयले छथिन।
शहर के लगभग पच्चीसों लोग सरोज राय नाम के आदमी पर अंगुली उठलई। मानल जा रहल हई कि सरोज राय फोन पर बीस लाख रूपईया रंगदारी मांग कयले रहथिन। रंगदारी न देला पर रात में दीपक स्टोर के गली में गोली मार के हत्या कर देलई। ओकरा तुरंत बाद मिडिया वाला के फोन करके अपन नाम अउर हत्या के जिम्मेदारी लेलथिन। सरोज मूल रूप से रून्नीसैदपुर थाना के बतरौलिया निवासी बालेश्वर राय के छोटका बेटा हई।
हत्या के बाद सदर अस्पताल में लाश के पोस्ट माॅर्टम कयल गेलई। ओकरा बाद अंतिम संस्कार 2 जनवरी 2015 के कयल गेलई। 1 जनवरी 2015 के रात में उनकर बेटा अउर भाई सीतामढ़ी पहुंचलथिन। ऐई आक्रोश में लोग मिडिया समेत पुलिस कर्मी अउर अधिकारी के साथ धक्का-मुक्का कलथिन अउर एस.पी. के पुतला जलायल गेलई। ऐई हादसा के शांत करे के लेल आई.जी. पारस नाथ कहलथिन कि कोई किमत पर हत्यारा के न बकशल जतई। एक सप्ताह के अंदर हत्यारा पकड़ा जतई। उनकर परिवार के लोग के भी आश्वासन देलथिन कि तत्काल पांच अपराधी पकड़ा के जेल गेल हई। मेन अपराधी के पकड़े के लेल लागल छी।