मोरे के शिकार में रोक लगाये, दरखास

mudhari ganva pez photo copyजिला महोबा, ब्लाक जैतपुर, गांव मुढ़ारी। एते को पप्पू को आरोप हे कि 3 साल से में देखत चलो आउत हो कि हमए एते स्टेशन कुलपहाड़ के पास भिलोनीडग जंगल मे रहत राष्ट्रीय पक्षी मोरन खा शिकार करो जात हे। एई मारे मैने लिखित दरखास कुलपहाड़ तहसीलदार खा देके राष्ट्रीय पक्षी मोर खे मारे में रोक लगावें कि मांग करी हे।
पप्पू कहत हे कि एक महीना पेहले में जंगल गओ हतो तभे मेने जंगल मे राष्ट्रीय पक्षी मोर को मरो देखो हतो। आदमी आये दिन मोरन खा मार के शिकार करत हे। जब कि जा पक्षी हमाऐ देखें कि शान आय। इखो मारे से बहोतई बडो अपराध हे, पे कछू लोग हे जोन इ बात खा नई समझत हें। एई से मैने दरखास दओ हे कि कछू कारवाही हो सके।
कुलपहाड़ तहसीलदार रामजी कहत हे मेंने ऊ दरखास खा कोतवाली भेज दई हे।
कुलपहाड़ एसो सतीश चन्द्र शुक्ला कहत हते अबे हमरे एते दरखास नहीं आई हे जभे दरखास आहे ओउते कि जांच करी जेहे।

रिपोर्टर – श्यामकली