मोबाइल लैपटॉप टीवी से पहले होते थे टॉकीज, बांदा जिले के अतर्रा में हमने उन बीते दिनों को याद किया

जिला बांदा, ब्लाक नरैनी, कस्बा अतर्रा हेंया के टाकीज चार साल पहिले बंद होइ गें रहै। काहें से बदलत जमाना मा अब मड़ई आपन घर के भीतर मनोरंजन के सब सुविधा जुटा लिहिन हैं पहिले टी वी अब मोबाइल से मड़ई आपन मनोरंजन करत हैं। पहिले मनोरंजन के साधन के रूप मा टाकीज बस रहि है पै अब टाकीज बिलकुल बंद होइ गे हैं।
टाकीज मालिक विनोद शिवहरे का कहब है कि पहिले टाकीज मा बहुतै भीड़ लागत रहै, पै अब मड़इन का रहन-सहन बदल गा है जबै से टी वी आ गें है तौ धीरे-धीरे भीड़ कम होत चली गें फेर टाकीज बंद होइ गें है।
सुरेश राज बताइस कि पहिले जबै टाकीज मा नदिया के पार अउर कउनौ धार्मिक फिल्म लागत रहै तौ बहुतै भीड़ लागत रहै। पै अब मोबाइल अउर टी वी के कारन सब बंद होइ गा है।
गौरी शंकर गुप्ता बबलू प्रसाद बाजपेयी का कहब है कि अब मोबाइल मा फिल्म देखित हन तौ नींक नहीं लागत पै मजबूरी मा देखे का पड़त है। टाकीज बंद होइ गें है तौ मड़ई आपन काम चलावत हैं ।

रिपोर्टर- मीरा देवी

01/05/2017 को प्रकाशित