मोदी का नगला फतेला में 70 साल बाद बिजली पहुँचाने का दावा निकला झूठा

Nagla_fatelaप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 15 अगस्‍त को लाल किले से अपने भाषण के दौरान उत्‍तर प्रदेश के हाथरस के गांव नगला फतेला का जिक्र करते हुए कहा था कि वहां पर 70 साल बाद बिजली पहुंची है। जबकि इस गांव की दिल्‍ली से दूरी केवल तीन घंटे की है। प्रधानमंत्री के इस दावे पर गांव के लोग सवाल उठाया, उनका कहना है कि गांव में केवल बिजली के तार खिंचे हैं, बिजली नहीं आई है। बिजली के खम्बे लगाए एक साल हो गया है।

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संबोधन में कहा था, ‘हम एलईडी बल्‍ब का इस्‍तेमाल कर दुनिया भर के तापमान में हो रहे बदलाव को सुधारने के साथ ही बिजली की बचत भी कर सकते हैं। हाथरस के नगला फतेला गांव जाने में दिल्‍ली से तीन घंटे लगते हैं। लेकिन वहां बिजली पहुंचने में 70 साल लग गए।‘

नगला फतेला गांव की आबादी 1550 है और यहां पर 235 परिवार रहते हैं। इसी चर्चा के चलते मीडिया में नगला फतेला गांव के लोगों के टीवी पर प्रधानंत्री का भाषण देखने की तस्‍वीरें भी जारी की गई थी।

सूत्रों के अनुसार इस गांव छह महीने पहले बिजली के खंभे लगा दिए गए और तार भी खींच दिए गए। यहां तक कि घरों में मीटर भी लग गए लेकिन बिजली सप्‍लाई शुरू नहीं हुई। हालांकि गांव के कुछ लोगों ने निजी केबल से गांव के बाहर से बिजली कनेक्‍शन ले रखा है। वहीं, बिजली विभाग दावा कर रहा है कि गांव में बिजली सप्‍लाई है।