मोटापे की समस्या को देखते हुए केरल सरकार ने लगाया पिज्जा-बर्गर पर ‘फैट टैक्स’

fat tax ed

केरल सरकार ने जंक फूड पर 14.5% फैट टैक्स लगा दिया है। यह देश का पहला ऐसा बजट है जिसमें केरल सरकार ने पिज्जा, बर्गर, सेंडविंच के उपभोक्ताओं पर फैट टैक्स लगाने की पहल की है। खाने की इन चीज़ों से मोटापा बढ़ता है तो केरल सरकार ने मोटापे के ही नाम से फैट टैक्स लागू कर दिया है।

सरकार का यह फैट टैक्स बड़ी – बड़ी विदेशी, मल्टी नेशनल फास्ट फूड चैन जैसे मैकडॉनल्ड, पिज्जाहट पर भी लागू होगा। सरकार का कहना है कि इससे सालाना 10 करोड़ रुपए की कमाई होगी ।

सरकार के फैट टैक्स की घोषणा के पीछे लोगों में जंक फूड, यानी ऐसा खाना जो पौष्टिक नहीं है और मोटापा भी बढ़ाता है, के खाने की आदत को कम करना है। यह पूरी दुनिया में चर्चा का विषय बना हुआ है।

 बिहार में समोसे पर लक्जरी टैक्स

जनवरी में बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सरकार ने समोसे पर लक्जरी टैक्स की घोषणा की थी, ताकि शराब की बिक्री पर लगी रोक से होने वाले नुकसान की भरपाई की जा सके।

इन देशों में जंकफूड पर टैक्स

हंगरी, मेक्सिको, जापान जैसे देशों में जंकफूड पर टैक्स है। डेनमार्क ने 2012 में यह टैक्स हटा लिया था। मेक्सिको में 2014 में जंक फूड पर आठ फीसद टैक्स लगाया गया था जिसके बाद वहां जंकफूड की बिक्री 5.1 फीसद गिर गई।

कंपनियों के शेयर गिरे

केरल में फैट टैक्स लगाने की खबर के बाद डॉमिनोज पिज्जा चेन चलाने वाली कंपनी जुबिलैंट फूड के शेयर तीन फीसद गिर गए। बर्गर बनाने वाली वेस्टलाइफ डेवलपमेंट के शेयर पांच फीसद गिर गए।