मुस्लिम तैराकों को इंग्लैंड में ‘बुरकिनी’ पहनकर तैराकी करने की मिली इजाजत

साभार: विकिमीडिया कॉमन्स

मुस्लिम महिला तैराकों को ढीली फिटिंग की पूरे शरीर को ढकने वाली ‘बुरकिनी’ पहनकर इंग्लैंड में एमेच्योर तैराकी स्पर्धा में भाग लेने की इजाजत मिल गई है।
मुस्लिम महिला खेल फाउंडेशन के आग्रह पर एमेच्योर तैराकी संघ (एएसए) ने स्विमसूट के नियमों में ढील देकर उन्हें लूज फिट की पूरे शरीर को ढकने वाला स्विमसूट पहनने की अनुमति दे दी।
गौरतलब है कि ओलिंपियन द्वारा पूरे शरीर को ढकने वाले स्विमसूट को पहनने पर प्रतिबंधित किया हुआ था क्योंकि इससे शरीर को पानी में तैरने में मदद मिलती है और इससे प्रदर्शन में सुधार होता है। ये नए दिशानिर्देश इंगलैंड में सिर्फ एमेच्योर प्रतिस्पर्धाओं के लिए ही लागू होंगे।
दिशानिर्देशों के अनुसार, इस तरह के स्विमसूट पहनने की इच्छा रखने वाले तैराकों को अपनी स्पर्धा से पहले टूर्नामेंट के रैफरी को इन सूट की जांच करानी होगी। जिसके बाद रैफरी तैराक पर सवाल नहीं उठा सकता।
वहीँ एएसए खेल संचालन बोर्ड के चेयरमैन क्रिस बोस्कोट ने इस कदम को सकारात्मक करार दिया जिससे ज्यादा से ज्यादा तैराकों को प्रेरणा मिलेगी।