मुंबई की लाजवाब ‘लड़की गोविंदा’…

unnamed (7) wwहर साल की तरह इस साल भी, मुंबई में जन्माष्टमी बड़े धूम-धाम से मनाई गई। इस त्यौहार का सबसे बड़ा आकर्षण होता है ‘दही हांड़ी’, जिसमें बीस फीट ऊँचे तार पर लटकते दही के मटके को तोड़ने के लिए युवा जिन्हें ‘गोविंदा’ कहा जाता है, एक दूसरे के कंधो पर चढ़ते हैं।
अक्सर दही हांड़ी फोड़ने के लिए लड़कों की मंडली बनती है, लेकिन मुंबई के जिया मासूम बस्ती का नजारा कुछ अलग है। यहाँ ‘लड़की गोविंदा’ की मंडली हर जन्माष्टमी में धूम मचाती है। इस मंडली का नाम है दीप क्रीडा मंडल, जिसमें चालीस लड़कियां हैं। इन चालीस ‘लड़की गोविंदा’ में से अड़तीस लड़कियां जिया मासूम बस्ती की हैं।
unnamed (8) wwइस मंडली की खासियत यह है कि यह लड़कियां निडर हैं और इन्हें इस तरह के काम करने में बहुत मज़ा आता है। खास कर, जब भी लड़के छेड़खानी करने लगते हैं तो ‘लड़की गोविंदा’ का यह गैंग वापस उन्हें ही सताता है। दही हांड़ी तक पहुँचने के लिए, दीप क्रीडा मंडल ने काफी अभ्यास किया है।

साभार: द लेडीज फिंगर