मिलिए रितेश अगरवाल से

साभार: ट्विटर/ओयो रूम्स

•उड़ीसा के 20 वर्षीय रीतेश अग्रवाल ने ‘ओयो रूम्स’ नाम की कंपनी की शुरूआत कर बड़े-बड़े अनुभवी उद्यमियों और निवेशकों को आश्चर्यचकित कर दिया है। अज ये 360 करोड़ की कंपनी बन गई है।
• ओयो रूम्स का मुख्य उद्देश्य यात्रियों को सस्ते दामों पर बेहतरीन मूलभूत सुविधाओं के साथ देश के बड़े शहरों के होटलों में कमरा उपलब्ध कराना हैं।
• ओयो रूम्स का उद्देश्य अब सिर्फ ट्रैवलर्स को किसी होटल में कमरा मुहैया कराना भर नहीं रह गया। अब वह होटल के कमरों की और वहां मिलने वाली मूलभूत सुविधाओं की गुणवता का भी ख्याल रखने लगे और इसके लिए कंपनी ने कुछ मानकों को भी निर्धारित किया। प्रारम्भ में ओयो रूम्स को लगातार ग्राहक मिलते रहे इसलिए उन्होंने लगभग दर्जन भर होटलों के साथ समझौता कर लिया।
• आज मात्र 2 वर्षों में ओयो रूम्स पंद्रह हज़ार से भी ज्यादा होटलो की श्रृंखला के साथ देश की सबसे बड़ी आरामदेह एवं सस्ते दामों पर लागों को कमरा उपलब्ध कराने वाली कंपनी बन चुकी है।
• रितेश अग्रवाल को 2016 के 50 सबसे बेहतरीन और नये कामकाजी युवाओं की सूची में शामिल किया है। इस सूची में उन युवाओं को शामिल किया जाता है जो अपनी नई सोच व विचारों से लोगों की जिंदगी को आसान बनाते है।