मार्क जुकरबर्ग: फेसबुक भारतीय चुनावों में दखलअंदाजी नहीं करेगा

साभार: विकिमीडिया कॉमन्स

फेसबुक डाटा लीक मामले में मार्क जुकरबर्ग ने अपनी कंपनी की गलती मानते हुए कहा कि उनकी कंपनी ने 5 करोड़ यूजर्स के डाटा को संभालने में गलती की है। साथ ही उन्होंने वादा किया कि इस तरह की सूचनाओं तक डेवलपर्स की पहुंच को रोकने के लिए हम कड़े कदम उठाएंगे।
फेसबुक डाटा लीक विवाद सामने आने के बाद पहली बार अपने सार्वजनिक बयान में जुकरबर्ग ने अपने फेसबुक पोस्ट के जरिये कहा कि कैंब्रिज एनालिटिका कंपनी द्वारा किये गये धोखाधड़ी के लिए फेसबुक हजारों एप्प की जांच करेगा।
सफाई देते हुए जुकरबर्ग ने लिखा कि लोगों के डेटा सुरक्षित रखना हमारी ज़िम्मेदारी है और अगर हम इसमें फ़ेल होते हैं तो ये हमारी ग़लती है। साथ ही उन्होंने कहा कि कंपनी से गलती हुई है। कंपनी ने इस मामले में अभी तक कई कदम उठाए हैं और आगे इस तरह की घटना हो, इसके लिए अभी तेज गति से कदम उठाने की जरूरत है।
अपने फेसबुक पेज पर लिखे एक पोस्ट में जुकरबर्ग ने कहा कि फेसबुक अपने यूजर्स को एक नया हथियार देगा ताकि उन्हें पता चले कि उनके डेटा का इस्तेमाल कैसे किया जा रहा है, साझा किया जा रहा है, और आगे से दुरुपयोग को रोकने के लिए डेटा तक उसके पहुंच को प्रतिबंधित कर देगा।
बाद में जुकरबर्ग ने कहा कि मुझे सच में खेद है कि यह हुआ। लोगों के डाटा की रक्षा करना हमारी मूल जिम्मेदारी है।