महोबा शहर में शौचालय बस नाम के

जिला महोबा, 2 मार्च 2017। महोबा शहर में नेडा विभाग की ओर से 1993 में 12 शौचालयों का निर्माण कराया गया। पर पिछले 15 सालों से इन शौचालयों की स्थिति जर्जर है। नेडा विभाग और नगर निगम इस समस्या के लिए एक-दूसरे को जिम्मेदार बता रहे हैं, और इस बीच लोग परेशान हैं ।

पर इन शौचालयों की खस्ता हालत से खासी परेशान हैंयहां की महिलाएं, क्योंकि वे कहीं भी  शौचालय के लिएनहीं बैठ सकती हैं । महारानी कहती हैं, “इन शौचालयों में न सफाई हैऔर न पानी की व्यवस्था। इन गन्दे शौचालयों की स्थिति के कारण अगर महिलाएं इनका इस्तेमाल करती हैं, तो कई बीमारी लगने का डर रहता है।”

महेन्द्र कहते हैं, “इन शौचालयों में महिलाओं और पुरुषों के लिए अगल-अलग शौचालयों की सही व्यवस्था नहीं हैं। इसके कारण कई बार बहुत शर्मनाक स्थितियां पैदा हो जाती हैं।”

मईन इन शौचालयों की स्थिति खराब होने का कारण सफाईकर्मी की बदली बताते हैं। इसके कारण आज यहां आने वाले यात्रियों को बहुत परेशानी होती हैं, क्योंकि यहां गंदगी के कारण शौच करना नामुमकिन है।

महोबा में अंडे की दुकान चलाने वाले वजिर कहते हैं, “पहले यहां सफाई रहती थी। हम लोग भी इसका इस्तेमाल करते थे।”

इस मुद्दे पर नगर पालिका के सफाई नायक हरिदास का कहना है, “हम लोग इनकी पहले देखरेख करते थे। फिर नोड विभाग ने जिस केयरटेकर को इनकी देखभाल के लिए रखा, उसने यहां कोई काम नहीं किया। अब जल्द ही इन शौचालयों की स्थिति में जल्द ही सुधार होगा।”

रिपोर्टर- श्यामकली 

Published on Feb 28, 2017