महोबा में मनरेगा मज़दूरों को ना काम मिला, ना मज़दूरी

जिला महोबा, ब्लाक चरखारी, गांव कीरतपुरा के आदमियन को आरोप हे के कानून नहर में काम करोकरो लेकिन मजूरी आज तक नइ मिली।
राजकुमारी ने बताई के नरौनी में करो तो हमने काम प्रधान ने करवाओ तो रुपईया अबे तक नइ मिले। प्रधान से काओ सो कत के अबे सरकारी रुपईया आओ ही नइया। रोज के सौ सौ आदमी लगे रए काम करबे कछू कछुआ मानी पे कछू खंती पे मट्टी खोदी ती सबने।
आरती ने बताई के हमने ककोरा में करो तो काम खेत में। दो हजार तो आ गये और अबे बाकी रुके हे अबे तक नइ आये पूरी अठाईस खंती हती।
सीमा ने बताई के रुपईया नइ मिल रए सो हमाय सब काम रुके। हमाई बैन को ब्याह हे कछू काम नइ हो पा रए। बाबूराम ने बताई के हमाई साठ हाजरी हे और रुपईया नइ मिले। प्रधान से कोऊ सो कत के आ जेहे आ जेहे रोज कत सो जोई कह देत।
जगदेव पटेल प्रधान ने ताई के अबे नब्बे प्रतिशत आ गओ दस प्रतिशत रह गओ पानी बरसबे के मारे कछू मास्टर तौल बाद में भरे ते तो सरकार से रुपईया रूक रूक के आ रओ। तीन किश्तन में आओ अबे रुपईया बाकी अप्रैल में सबके रुपईया आ जेहे।

रिपोर्टर- सरोज सैनी

Published on Apr 3, 2017