महोबा जिले के स्कूल में बच्चों में लड़ाई, आपसी रंजिश या छुआछूत?

जिला महोबा, गांव सुनैचा  भले ही सरकार सबको साथ सबको विकास की बात कर  रई हो। लेकिन हमाए गांव के आदमी एक छुआ छूत जैसी परम्पराओ में आज भी बंधे हे। अठारह जुलाई को ठाकुर जात के मोड़ा ने एक बसोर जात के मोड़ा से शादी में गाना गाबे की बात कई मना करबे पे दोई मोड़न में मारपीट हो गई।जिला महोबा, गांव सुनैचा  भले ही सरकार सबको साथ सबको विकास की बात कर  रई हो। लेकिन हमाए गांव के आदमी एक छुआ छूत जैसी परम्पराओ में आज भी बंधे हे। अठारह जुलाई को ठाकुर जात के मोड़ा ने एक बसोर जात के मोड़ा से शादी में गाना गाबे की बात कई मना करबे पे दोई मोड़न में मारपीट हो गई। सुनील चौरसिया प्रभारी प्रधानाध्यापक ने बताई के मेन मुद्दा तो दोई परिवार में आपसी रंजिश हे और फिर स्कूल में लड़ परे स्कूल में एक दूसरे को धक्का दे दओ मोड़ा को आंख के पास खरोच आ गयी। सहायक अध्यापक ने मोड़न को अलग करो मोड़न के घर वालिन को सूचित करो और बच्चा को अस्पताल भेजो। अध्यापक अधिकारी महोदय के ते से हमसे रिपोर्ट मांगी गयी ती तो हमने दे दई। छुआ छुत बिल्कुल भी नइया हम खुद बच्चन को लाइन में लगात। राम मिलन छात्र ने बताई के बो बोलो के हमाई शादी में ढ़ोल बजा हो तो हमने मना कर दई सोई मारो। गंगादीन दादा को आरोप हे के एक बार होबे तो ठीक हे तीसरी बार एसी घटना स्कूल में मिली। पूजा बहिन ने बताई के पहले चम्पा मेम कत ती हमे नइ पढ़ाने तुमाय बच्चन को।छुआ छूत मानत ती। नरेंद्र सिंह धाकड़ के बाप ने बताई के बाने कई के कुश्ती लड़ लो तो लड़ गये दोई बराबर के मोड़ा हे। दलजीत सिंह कबरई एस ओ ने बताई के गांव को मामला हे तहरीर दई जेहे। अमित कुमार जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने बताई एसो कछू नइया कोऊ छुआ छूत नइ मानत।

रिपोर्टर- श्यामकली

Published on Jul 28, 2017