महोबा जिले के बम्हौरी खुर्द गाँव में पहली बारिश में ही 70 लोगों के घर गिर गए

जिला महोबा, गांव बम्हौरी में शुरु बरसात में घर गिरै से लोग घर से बेघर हो गये हें। लेखपाल आओ हतो तो सर्वे कर लओ ,पे अभे तक सरकार के तरफ से कोनऊ मुआवजा नहीं मिलो हे। जीसे लोग बोहतई परेशान हें।
गांव के मूरत सिंह कहत हे कि इ गांव के आबादी लगभग चार सौ हे। एते पहली बरसात में घर गिर गए हें। ईसे गरीब लोग पन्नी डार के अपने गुजर बसर करत हें। हमाये तीन लड़का हें। जीसे दो कमरा में बोहतई परेशानी आउत हे।
अमल देवी कहत हे कि हमरे रहबे खे लाने दो कमरा हते। ऊ दोनों गिर गये हें हमाये पास रुपइया नईयां खे अपने रहे खे लाने पक्को घर बनवा सकेंहमाये पास रुपइया नईयां खे अपने रहे खे लाने पक्को घर बनवा सकें दोनों गिर गये हें। जीसे अब रहें के समस्या आ गई हे ।
शारदा बताऊत हे कि गरीब लोग समस्या से गुजरत हें हमाये पास रुपइया नईयां खे अपने रहे खे लाने पक्को घर बनवा ले दोनों घर गिर गये हें। जीसे अब रहें के समस्या आ गई हे ।
पेहले से सरकार कोनऊ ध्यान नई देत हमाये पास रुपइया नईयां खे अपने रहे खे लाने पक्को घर बनवा दोनों गिर गये हें। जीसे अब रहें के समस्या आ गई हे ।
दयाराम का कहत हे कि एसी बरसात में हम तो खुले आसमान के तरे रहत हें। जालम सिंह कहत हे कि घर गिरने से हमाओ तो गरीबी में आटो गीलो हो गओ हे ।
तहसीलदार राम जी कहत
हे कि लेखपाल ने सर्वे कर लओ हे । आगर सरकार क्व तरफ से घर गिरें को मुआवजा पास होत हे तो जरूर दओ जेहे ।। ईसेपेहले हम कछु नई कर सकत हें ।
28/07/2016 को प्रकाशित

महोबा जिले के बम्हौरी खुर्द गाँव में पहली बारिश में ही 70 लोगों के घर गिर गए
बेघर लोग दूसरों के घर में रहने पर मजबूर हैं