महोबा जिले के कुलपहाड़ में हर साल बनाते हैं घर, हर साल बारिश बहा ले जाती है

जिला महोबा, क़स्बा कुलपहाड़। सरकार के लिए कितनी योजनायें बनाती हैं लेकिन इन योजनाओं का लाभ शायद ही इन गरीबों तक पहुँचता हो। यही हाल प्रधानमन्त्री आवास योजना का है क्यों यहाँ के लोग कच्चे घर में रहते हैं। हर साल बारिश के मौसम में लोगों के घर गिर जाते हैं। प्रधानमंत्री आवास के लिए लोगों ने फॉर्म भी भरे हैं लेकिन फिर भी इन लोगों को आवास नहीं मिले हैं।
डूडा विभाग के सहायक परियोजना अधिकारी अबरार अहमद का कहना है की कुछ लोगों ने ऑनलाइन से प्रधानमन्त्री आवास के तहत गलत फॉर्म भरा था इस कारण उन लोगों का आवास में नाम नहीं आया है। गायत्री और मीरा का कहना है की नेता वोट लेने आते हैं लेकिन आवास कोई नहीं देता है। हम गरीब लोग अपना कच्चा घर बनाकर रहते है जिसे हर साल बरसात के बाद फिर से बनाना पड़ता है जब हमारे घर गिर गए थे तब हम लेखपाल के पास आवास के लिए गए थेए तब उसने हमे भगा दिया था। गरीबों के लिए आवास की योजना बनी है लेकिन सिर्फ नाम के लिए है।

बाईलाइन-श्यामकली

10/10/2017 को प्रकाशित