कैसे होगी खेती जब किसान नहीं खरीद पाएंगे बीज? महोबा जिले के किसानों की दुविधा

जिला महोबा, क़स्बा कुलपहाड़ आदमियन में चकबंदी को लेके बोहतई गुस्सा हे। किसानन के अनुसार पूरी चकबंदी करे बिना ही आदमियन  को कब्ज़ा करबे के लाने तीस जून को आदेश भी दे दओ गओ अब किसान जा बात से परेशान हे और हसील के चक्कर लगा रए।जिला महोबा, क़स्बा कुलपहाड़ कुलपहाड़ के आदमियन में चकबंदी को लेके बोहतई गुस्सा हे। किसानन के अनुसार पूरी चकबंदी करे बिना ही आदमियन  को कब्ज़ा करबे के लाने तीस जून को आदेश भी दे दओ गओ अब किसान जा बात से परेशान हे और हसील के चक्कर लगा रए। जगदीश कुमार ने बताई के सही नाप न होबे के मारे किसान मारो मारो फिर रओ और न कब्ज़ा परिवर्तन करवा रए न कछू। राधेलाल और नाथू राम ने बताई न अपनी खेती बो पा रए न कछू कर पा रए सब गड़बड़ करके चकबंदी कर दई। सैतीस साल से किते सो रए ते आदमी। लक्ष्मण ने बताई के खेत खाली डरे समय निकरो जा रओ। इन ने हल्पनामा दर्ज करो तो के पंद्रह जून तक कुलपहाड़ को नाप दओ जेहे जई से जल्दी जल्दी में सही नइ नापो और माइप द्वारा एलान कर  दओ के अपनों अपनों कब्ज़ा ले लो। जब नाप करी ही नइया तो किते से लेले चकबंदी। अधिकारी रमेश बाबू ने बताई के जो कब्ज़ा सम्बन्धित चीजे हे जी में बे ओरे बाहर रत ते बे मौका पे नइ हते। जब हमाओ स्टाप के द्वारा चकबंदी हो रई ती अब जो भी किसान आ रए हम उनकी दरखास ले रए हम फिर से अपने स्टाप के द्वारा नाप करवा हे। किसानन को नुकसा नइ होन देहे। बरसात होबे के कारन हम काम आगे नइ बढ़ा सकत।

रिपोर्टर- श्यामकली

Published on Jul 18, 2017