महोबा के मुहारी गाँव में बिजली के तार जर -जर , कभी भी हो सकती है बड़ी दुर्घटना

जिला महोबा, ब्लाक जैतपुर, गांव मुहारी में चालीस साल पहले बिजली के तार लगे तब से इते के बिजली के तार बदले नइ गए। तार इतने कमजोर हो गये के थोड़ी सी हवा चलबे पे आपस में टकरात तो चिंगारी छूटत। कबहु भी बड़ी घटना घट सकत। गांव के आदमियन को कबो हे के हमने बिजली के ठेकेदार से लेके बड़े अधिकारी तक को दरखास दई लेकिन अबे तक विभाग ने तार नइ बदले।
प्रकशचन्द्र राजपूत ने बताई के हवा आत तो तार टूट जात केऊ बार आग भी लग चुकी। जब से हमने होश सम्भालो तब से एसे ही डरे।
महिपाल ने बताई के जे तारन से दो बार लग चुकी आग बो तो मौका पे आदमी हते सो नुकसान नइ भओ जेसे ही आग पकड़ी और तुरंत बुझा दई। दरखास लगाबे के बाद हम ओरन ने तार काट दए ते पूरे ताकि कोनऊ सुनवाई होबे। लेकिन नइ भई। जब फिर सबने सुरक्षा के लाने अपने अपने तारन को इंतजाम करो काय के जई खम्भा से सप्लाई हे पूरे गांव में।
राकेश तिवारी ने बताई के हमाय तो मकान के पीछे से गयी चिंगारी कितऊ भी गिर जात काय के हर आदमी नइ डोरी तो लगात नइया और खम्भा की भी इते जरुरत हे। सपा की सरकार में जे विधायक तीन तीन बार जीते लेकिन कछू नइ करवाओ।
भगवानदास ने बताई के मीटिंग में जो भी अधिकारी आत सब से कई लेकिन सब कत के करवा देहे लेकिन कोऊ नइ करवात पूरे गांव में कम से कम साठ पैसठ कनेक्शन से ज्यादा हे।
प्रधान ने बताई के हमने ठेकेदार को फ़ोन भी करो बार बार कत के प्रधान जी जा महिना में लगवा देहे एक साल हो गयी बराबर बार बार कत कत।

रिपोर्टर- सुनीता प्रजापति

08/05/2017 को प्रकाशित