‘महिलाएं सक्षम होंगी तभी उनका सम्मान बढ़ेगा’- सुनीता सिंह, चित्रकूट

जिला चित्रकूट, ब्लाक मऊ, कस्बा बरगढ़ किला चौराहा मा अकेली मेहरिया टेलर सुनीता सिंह आपन सिलाई के दुकान सुप्रिया सिलाई सेंटर खोले हवैं। सेंटर मा वा बिटियन का सिलाई भी सिखावत हवै।
सुनीता का कहब हवै कि मेहरिया जबै सक्षम होइ जात हवै तौ उनकर मान सम्मान बढ़ जात हवै रुपिया कमा के आपन परिवार का सहयोग भी कर सकत हवै। ससुराल मा जइहैं तौ हुंवा भी सहयोग कइ सकत हैं मेहरिया आत्मनिर्भर रहत हवै तौ अत्याचार खतम होत हवैं।
आपन हक के लड़ाई लड़ सकत हवै। जबै मैं हिंया आई रहिवं तौ सगले मनसवा टेलर के दुकान रहै, कुछौ मेहरिया सिलाई का काम करत भी रहै तौ आपन घर मा करत रहै तबै मैं हिंया सिलाई सेंटर खोले हौं। हिंया कम रुपिया मा अच्छी सिलाई सिखाई जात हवै जेहिसे हमार सेंटर के आवाज गांव के कोने-कोने तक पहुंचे अउर हमार दुकान का नाम होय।लडकियां का नींकतान सिलाई सिखाई जात हवै पहिले पेपर मा काटै सिखावा जात हवै फिर कापी का ड्राफ बनावे भी सिखावा जात हवै।
सिलाई सीखे वाली बिटिया अंतिमा बताइस कि तीन महीना से सिलाई सीखत हौं। ब्लाउज, पेटीकोट अउर सूट बनावै सीख लीने हौं आपन पांव मा खड़ा होय खातिर सिलाई सिखित हन बंदना बताइस कि डेढ़ महीना से सिलाई सीखत हौ जेहिमा पेटीकोट, ब्लाउज अउर सलवार सूट बना लेते हौं।

रिपोर्टर- सुनीता देवी

21/03/2017 को प्रकाशित