मध्यप्रदेश की स्कूली किताबों में खिलजी को हीरो की तरह दिखाने पर करणी सेना नाराज़

साभार: रणवीर सिंह/ट्विटर

मध्य प्रदेश के पाठ्यक्रम में अलाउद्दीन खिलजी को हीरो के तौर पर पेश करने पर करणी सेना ने विरोध शुरू कर दिया है।
मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की 12वीं की किताबों में छात्रों को खिलजी की शौर्य गाथा पढ़ाई जा रही है। पाठ्यक्रम में खिलजी की युद्धनीति और बाजार नियंत्रण नीति की तारीफ की गई है।
पाठ्यक्रर्म के 334 पन्ने पर खिलजी को वीर बताते हुए लिखा गया है कि यद्यपि अलाउद्दीन खिलजी में दोष थे लेकिन वो प्रतिभावान और योग्य दृढ़ निश्चय वाला व्यक्ति था।
मध्य प्रदेश क्षत्रिय महासभा ने किताब में खिलजी के गुणगान पर आपत्ति जताई है। एमपी क्षत्रिय महासभा के महामंत्री दीपक चौहान ने कहा कि हम किताब से खिलजी के अंश को हटवाने की मांग करेंगे। इस किताब में रानी पद्मावती के लिए मात्र 2 लाइनें और खिलजी के लिए 13 पन्ने लिखे गए हैं।
उन्होंने कहा कि राजपूत समाज इन किताबों को जलाएगा। क्षत्रिय महासभा के महामंत्री ने कहा कि किताब के लेखक को भी राजपूत समाज कोर्ट में चुनौती देगा।
आपको बता दें कि राजस्थान सरकार ने करणी सेना की इसी आपत्ति को आधार मानकर फिल्म के प्रदर्शन पर रोक लगा दी थी।