मदमस्त करती ‘कबाली’

www edफिल्म का नाम: कबाली
निर्देशक: पीए रंजीत
स्टार कास्ट: रजनीकांत, राधिका आप्टे
अवधि: 2 घंटा 30 मिनट

दक्षिण के निर्देशक पीए रंजीत ने ‘अटकत्ती’ और ‘मद्रास’ जैसी बेहतरीन तमिल फिल्मों के निर्माण के बाद इस बार सुपर-डुपर स्टार रजनीकांत के साथ फिल्म ‘कबाली’ बनाई है। तमिल के साथ-साथ इस फिल्म को हिंदी, तेलुगु और मलयालम भाषा में भी डब करके रिलीज किया गया है।
फिल्म की कहानी कबालीश्वरन (रजनीकांत) की है जो मलेशिया में ‘कबाली’ के नाम से प्रसिद्ध है। अपनी पत्नी रूपा (राधिका आप्टे) के साथ उसकी जिंदगी अच्छी गुजर रही थी फिर अचानक किन्हीं कारणों से उसे गैंगस्टर बनना पड़ता है और 43 नामक गैंग की वजह से 25 साल के लिए जेल जाना पड़ता है।
जेल से वापस आने पर कबाली से ’43 गैंग’ के सदस्य डरने लगते है और उन्हें धंधा खराब होने का डर सताने लगता है। फिर कहानी में कई बदलाव आते है। कहानी मलेशिया से होते हुए भारत आती है और आखिरकार अंत में रजनीकांत की बाकी फिल्मों जैसा अंजाम मिलता है।
फिल्म की कहानी तो सामान्य है लेकिन शूटिंग के तरीके और रजनीकांत की मौजूदगी ने इसे एक बेहतरीन फ़िल्म बना दिया है। मलेशिया को इसमें बहुत खुबसूरत दिखाया गया हैं।
वैसे कहानी काफी लंबी लगती है जिसे थोड़ा छोटा किया जा सकता था। कुछ सीन ऐसे भी हैं जो आपको भावुक भी कर जाते हैं।
रजनीकांत ने फिल्म में अपने अलग-अलग रूपों को हमेशा की तरह बखूबी निभाया है, रजनीकांत का अंदाज अपने आप में ही आकर्षण का केंद्र हैं, वहीं राधिका आप्टे ने एक बार फिर से अच्छा अभिनय किया है।
फिल्म का संगीत संतोष नारायण ने अच्छा दिया है और आपको बांधें रखने में सक्षम भी है।
रजनीकांत की फिल्मों को पसंद करते हैं तो इस फिल्म को जरुर देखना न भूलें।

रिपोर्ट- खबर लहिरया ब्यूरो