मजूरी करै के बादौ नहीं मिला रुपिया

मिलै मजूरी
मिलै मजूरी

जिला चित्रकूट, ब्लाक कर्वी, गांव चकला, पुरवा कल्ला। हिंया तीन महीना पहिले तेरह मजूर मनरेगा के तहत रास्ता मा खड़ण्जा डारैं का काम करिन, पै उनके मजूरी आजौ तक नहीं मिली आय। यहिके खातिर एक महीना पहले प्रधान भीमराज सिंह यादव से कहा गा, पै वा हां-हां कहिके टाल देत हवैं।
पुरवा के सूरजकली का कहब हवै कि या सोच के मनरेगा के तहत मजूरी कीने रहौं कि मजूरी का रूपिया मिली तौ घर के खर्चा मा काम देइ। मैं पचीस दिन रास्ता मा खड़ण्जा डारे रहांै। एक दिन के एक सौ छप्पन रूपिया मजूरी रहै। यहै से सैंतिस सौ चवालिस रुपिया होत हवै।
सहोदिया कहिस कि तीन महीना होइगे। अबै तक प्रधान भीमराज सिंह यादव बीस दिन के मजूरी का रूपिया इकत्तिस सौ बीस रुपिया नहीं दिहिस। अगर मजूरी का रूपिया मिल जात तौ नवरात्रि का त्यौहार नींक से मना लेतेन।
कलावती कहत हवै कि मजूरी करैं के बादौ मजूरी का रूपिया लें खातिर प्रधान के हर हफ्ता चक्कर लगावत हौं, पै वा नहीं सुनत आय। प्रधान भीमराज सिंह यादव का कहब हवै कि सात दिन के भीतर मजूरन के खाता मा मजूरी का रूपिया पहुंच जई। अबै तक सरकार कइती से रूपिया नहीं आवा रहै। यहै से मजूरी का रूपिया दें मा समय लाग गा हवै ।