मजदूरों की ज़िन्दगी निगलते महोबा, कबरई गांव के खदान.

22/03/2016 को प्रकाशित