मजदूरी खातिर बी.डी.ओ. से शिकाइत

बी.ड़ी.ओ. से शिकाइत
बी.ड़ी.ओ. से शिकाइत

जिला बांदा, ब्लाक नरैनी, पुकारी गांव। हेंया महात्मा गांधी राष्ट्रीय रोजगार गारन्टी योजना (मनरेगा) के तहत करैं वाले काम मा कतौ मजदूरन का मजदूरी नहीं मिलत कतौ काम नहीं मिलत। इं सब समस्यन का लइके पुकारी गांव के मजदूर 8 जुलाई 2014 का प्रधान पंचायत मित्र अउर सचिव के सउहंै बी.डी.ओ. का दरखास दिहिन।
पुकारी गांव का बबलू बतावत है-“मैं मई 2014 मा नाला अउर मेड़बंदी का काम बीस दिन करे हौं। रूपिया अबै तक नहीं मिला आय। राना कहत है कि मोर भी 6 दिन के मजदूरी परी है। पुकारी के मजरा अकेलवा के सीताराम, बसीर अउर विनोद कहत हंै कि हमका 2013 से काम नहीं मिला आय। यहिसे काम के मांग करै आय हन।”
पंचायत मित्र नीलम का मनसवा सुनील कहत हैं कि मस्टर रोल कुछ देर मा आवा है। नरैनी बी.डी.ओ. राम किसन कहत है कि सब मजदूरन के काम के मजदूरी 27 जून 2014 का कम्प्यूटर मा फीड होइगे है। बैंक मा जा के देखै अगर पंचायत मित्र मनरेगा के काम मा एकौ हेरा फेरी करी तौ जेल भेजा जई।