मच्छरन से परेशान जनता

mahoba sampaadakiyaमहोबा जिला मे जनता बोहतई परेशान हे। काय से मच्छर तो गन्दगी से ही पैदा होत हे ऊसई महोबा जिला के गांव कस्बा में तो बोहतई तालाब हे। जीमें गांव कि नालियन को पानी तालाब में जात हे। पे सरकार ईखे लाने कोनऊ ध्यान नई देत आय।
न सफाई कर्मी के सफाई के ऊपर ओर न मच्छर वाली दवाई कि छिड़काव पे। सरकार का ध्यान है आखिर जा जवाब देही किखी हे ? सरकार की या फिर सफाई कर्मी की ? सरकार तो नाम खे स्वाच्छता अभियान बनाओ हे पे ऊमें कोनऊ ध्यान नई्र देत आए। जीसे गांव शहर के आदमी मच्छर से बच के स्वस्थ रह सकें। गर्मी के मौसम में तो ओर भी ज्यादा मच्छर से आदमी परेशान रहत हे। काय से गांव में सबके घरन में पंखा बिजली नई रहत आए ओर गांव के आदमी बाहर ही सोउत हे। मच्छर के काटे से आदमी बीमार हो जात हें।
अगर सरकार ने नियम ओर स्वाच्छता अभियान लागू करो हे तो ऊखा उपयोग भी करें खां चाही । जीसे साफ सफाई ओर बीमारी से गांव के गरीब आदमी बच सके। बड़ी आबादी वाले गांव ओर कस्बा के देखो जाए तो दो या तीन सफाई कर्मी हे। न तो ओते अच्छे से सफाई होत हे ओर न ही दवाई को छिड़काव करो जात हे। सफाई के बारे विभाग में जाके पूंछो तो कोनऊ न कोनऊ बहाना निकर आउत हे। आखिर ई खी जवाब देही कि खी ? ई बात के जवाब देही को इन्तजार महोबा जिला के जनता खें हे।