मंत्री राजेंद्र प्रताप सिंह ने दलित के घर खाया खाना, कहा- शबरी की याद आ गई

2019 लोकसभा चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश में दलितों को लुभाने के लिए दलित बाहुल्य क्षेत्रों में बीजेपी के विधायक, सांसद, केंद्रीय मंत्री और यूपी सरकार के मंत्री ग्राम स्वराज अभियान चला रहे हैं।
दलित वोटरों को अपने पाले में लाने के लिए बीजेपी की मुहिम जोरों पर है।  वे अभियान के तहत सभी विधायक और मंत्री गांवगांव पहुंच कर चौपाल लगा रहे हैं और दलितों के घर खाना खा रहे हैं।
ग्राम स्वराज अभियान के सिलसिले में उत्तर प्रदेश के ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री और झांसी जिले के प्रभारी मंत्री राजेंद्र प्रताप सिंह उर्फ मोती सिंह झांसी पहुंचे।  यहां उन्होंने चौपाल भी लगाई और दलित के घर खाना भी खाया।  उन्होंने कहा कि दलित के घर खाना खाने का अनुभव सुखद है।
1 मई को जिले के गढ़मऊ गांव में चौपाल कार्यक्रम के बाद एक दलित के घर खाना खाने के बाद उन्होंने कहा, ‘एक दलित के घर खाना खाने का बहुत सुखद अनुभव होता है।
दलित के यहां पहुंचकर प्रभारी मंत्री ने जमीन पर बैठकर खाना खाया और खुशी जहिर करते हुए कहा, ‘मेरी मां बताया करती थी की एक दलित महिला ने ही मेरी नाल काटी थी। आज दलित परिवार के घर खाना खा कर मुझे भगवान राम और शबरी के संवाद की याद आई।