भोपाल में बना पहला ट्रांसजेंडर शौचालय

फोटो साभार: विकिमीडिया कॉमन्स

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गांधी जयंती के मौके पर किन्नरों के लिए ट्रांसजेंडर शौचालयका उद्घाटन किया। 2014 में सुप्रीम कोर्ट से किन्नरों को थर्ड जेंडर की मान्यता मिलने के बाद शौचालय का निर्माण कराया गया है।
भोपाल का मंगलवारा इलाका किन्नरों के लिए मशहूर हैं। मंगलवारा में किन्नरों के राष्ट्रीय स्तर के सम्मेलन होते हें। इस शौचालय को मंगलवारा इलाके में ही बनाया गया है। इससे लगे बुधवरा में भी बडी संख्या में किन्नरों की दूसरी टोली रहती है। मंगलवारा के किन्नर मर्दाना टोली और बुधवारा के जनाना टोली कहलाते हैं। दोनों टोली के किन्नर इस शौचालय का उपयोग कर सकेंगे।
माना जाता है कि मप्र में भोपाल में सबसे ज्यादा किन्नर हैं, इनकी आबादी करीब तीन हजार है। यहाँ 30 हजार ट्रांसजेंडर हैं। भोपाल में लोकार्पित हुए शौचालय में किन्नरों के लिए मेकअप रूम और चेंजिंग रूम की व्यवस्था भी की गई है।
ट्रांसजेंडर शौचालय का उद्घाटन करने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि थर्ड जेंडर को जो सम्मान मिलना चाहिए, शायद वो सम्मान नहीं मिला है। ऐसी स्थिति बदलनी होगी। आम नागरिकों की तरह की थर्ड जेंडर को भी सारे अधिकार मिलने चाहिए, जो उन्हें प्रदेश सरकार देगी।
सीएम शिवराज सिंह चौहान ने अपने संबोधन में कहा कि मप्र सरकार किन्नरों को मकान के लिए डेढ़ लाख का अनुदान देगी। किन्नरों की समस्याओं को लेकर जल्द ही किन्नर पंचायत का आयोजन कराया जाएगा। साथ ही सीएम ने कहा कि किन्नरों की आड़ में जो लोग गलत हरकत करते हैं, उनके खिलाफ पुलिस सख्त कार्रवाई करेगी।