भैंस न देय पे ससुराल से निकार दओ

22-07-15 Mahoba - Kachehri webजिला महोबा, ब्लाक जैतपुर, गांव रजौनी एते रामवती ओर मुकलिस को आरोप हे कि दहेज में भैंस न देय पे ससुराल वालेन ने घर से निकार दओ हे। जीसे छह महिना से महोबा कचहरी में दहेज प्रथा को मुकदमा लड़त हें।

रामवती कहत हे कि हम दोनऊ सगी बहन की शादी तीन साल पेहले रजौनी गांव में रापाल ओर जगदीश के साथे ण्कई घर में भई हती। मायका मध्य प्रदेश को चन्द्रपुरा गांव हे। शादी में कोनऊ मांग नई मांगी। एक साल के बाद एक एक भैंस मगांउन लगे। जा बात हमने अपने बाप से बताई। तभई हमाओ बाप ससुराल गओ ओर हाथ विनती करी कहो कि मोये छह बिटिया हे। कीखे-कीखे भैंस देहो। ससुराल वाले कहन लगे की भैस न देहों तो बिटियन खा भी लेवा जाओ कोनऊ जरूरत नइयां। एक साल से हम मायके में रहत हे। छह महिना पेहेले दोनऊ बहन ने नौगांव से दहेज प्रथा ओर खाना खर्चा को मुकदमा लड़त हे।

रामवती को आदमी रामपाल कहत हे कि हमने दहेज की मांग नई करी हे। ऊखो एते खुद नई रहत हे।हम केऊ दइयां लिबाउन गये हें ऊ नई आउत हे।