भाषण दें से का खतम होइ समस्या

गाँव और कस्बों में शौचालयों की हालत
गाँव और कस्बों में शौचालयों की हालत

उत्तर प्रदेष राज्य के  सबै जिला मा षौचालय के समसया बनी हवै। मड़ई  कत्तौ खेत जात हवैं नही ंतौ खुले मा ही षौच जाये का मजबूर हवैं।
चित्रकूट जिले मा जइसे कि मऊ ब्लाक के लालता रोड कस्बा मा रोज के इलाहाबाद, राजापुर, अउर खण्डेहा के बसें चलत हवंै। षौचालय न होय से हुंवा के दुकानदार अउर यात्री पेषाब करैं खातिर समस्या का झेलत हवै। हुंवा अबै तक षौचालय नहीं बना हवैं।
दूसर कइती गांवन के घरन मा षौचालय न होय से औरतन अउर लड़कियन के साथै आय दिन छेड़खानी अउर बलात्कार जइसे के घटना घटत हवैं।
अगर मड़ई दुसरेन के खेत मा षौच करै जात हवैं तौ लड़ाई अउर मारपीट तक होइ जात हवै। षौचालय बनवावै खातिर ध्यान देब जरुरी हवै तबहिने या समस्या से मड़इन का छुटकारा मिल सकत हवै? षौचालय खातिर कइयौ योजनाएं आवत हवैं पै हजारन मड़इन मा कुछ ही यहिका लाभ उठा पावत हवैं। अधिकतर घरन मा, बड़े बस अड्डा अउर कस्बा मा भी षौचालय जइसी जरूरी  सुविधा नहीं आय।
हाल मा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी तौ आपन भाषण मा जोर जोर से कहत हवैं कि हर घर अउर चैराहा मा षौचालय बनवावा जई। साथै ही प्रधानमंत्री स्वच्छता का नया अभियान भी षुरू करिन हवै, पै जबै तक गांव-गांव अउर कस्बा तक षौचालय के कमी रही तबै तक एक स्वच्छ देष नहीं बन सकत हवै।