भारत में बढ़ता जा रहा है अमीर और गरीब के बीच अंतर

फोटो और लेख साभार: इंडियास्पेंड

भारत में 1980 से 2014 के बीच अन्तर बढ़ा है। देष के एक प्रतिशत जनसंख्या और अन्य शेष जनसंख्या में वृद्धि और आय में अंतर बहुत बढ़ा है। ये बात अर्थशास्त्री थॉमस पिक्टेटी और लुकास चांसल के शोध में सामने आई है।
आय में होने वाले इस बड़े अंतर के कारण अमीर और अमीर बनते जा रहे हैं, वहीं गरीब और गरीब होता जा रहा है। ये अंतर सिर्फ भारत में ही नहीं देखने को मिल रहा बल्कि चीन, अमेरिका और फ्रांस में भी ये अन्तर 1980 से 2014 में देखने को मिला।
संयोग से, 1 9 70 और 1 9 80 के दशक में, जब आय असमानता को कम से कम गिरने के लिए दिखाया गया था, तब वह समय था जब भारत का जीडीपी और प्रति व्यक्ति आय वृद्धि दर एक में गिर गई। कागज बताता है कि 19 80 से 2014 के बीच, फ़्रांस और चीन में शीर्ष 0.1% आय वाले आय में 50% की आय की तुलना में छह गुना तेजी आई।
पिक्टेटी और चांसल के नवीनतम पत्र से भारत में असमानता की स्थिति के बारे में बहस चलने की उम्मीद है और उच्च विकास का लाभ सभी वर्गों में फैल गया है या नहीं, ये कहना अभी मुश्किल हैं ।
दोनों अर्थशास्त्री आय असमानता की वैश्विक प्रकृति को मानते हैं लेकिन यह कहते हैं कि: भारत में विकास का ये  अंतर ज्यादा है। पेपर ने कहा कि शीर्ष 0.1% आय कमाने वाले 8 लाख से कम लोग हैं, जो गुड़गांव की आबादी से भी कम है।