भारत में बुजुर्गों की संख्या बढ़ रही है लेकिन केन्द्रीय निधि का सिर्फ 7% ही इस्तेमाल होता है

सदन में सरकार के जवाब में, पिछले दो वर्षों में, राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने वृद्ध (एनपीएचसीई) के हेल्थकेयर (एनपीएचसीई) के लिए राष्ट्रीय कार्यक्रम के लिए जारी धन के 7% से अधिक का उपयोग नहीं किया है।
औसत 2015-16 और 2017-18 के दौरान गैरसंचारी रोग (एनसीडी) के तहत एनपीएचसीई के लिए जारी 1,414 करोड़ रुपये का केवल 5% का उपयोग किया गया है।
ये एनसीडी देश के सबसे बड़े सार्वजनिक स्वास्थ्य कार्यक्रम राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) के छह प्रमुख वित्तपोषण घटकों में से एक है। यह अलगअलग उद्देश्यों के लिए धन का उपयोग करने के लिए राज्य सरकारों को स्वतंत्रता प्रदान करता है और उन्हें विशिष्ट उपयोगों तक सीमित नहीं करता है।
रिपोर्ट के अनुसार, वर्तमान में भारत की बुजुर्ग आबादी 26.8 मिलियन हो गई है। वर्तमान में, 10 भारतीयों में से एक की उम्र 60 वर्ष से ऊपर है, लेकिन 2050 तक पांचवां (19%, लगभग पांच में से पांच) सभी भारतीयों की आयु 60 वर्ष या उससे ज्यादा होगी।
अगले वर्ष में, सरकार द्वारा बनायीं गयी समितियों ने फंड के कम उपयोग पर एक समान अवलोकन किया और विभाग को कार्यवाही करने के लिए कहा।
सिफारिश की गई कि धन का सही उपयोग सुनिश्चित करने के लिए सिर्फअनुस्मारकके बजायसख्त निर्देशजारी किए जाएं।
18 दिसंबर, 2013 को राज्यसभा में प्रस्तुत एक रिपोर्ट में समिति ने योजना की कमी और अनुचित तरीके से निर्धारित लक्ष्यों पर ध्यान देने के लिए कहा था।
बता दें कि राज्य स्वास्थ्य सेवा प्रणाली के विभिन्न स्तरों पर वरिष्ठ नागरिकों (60 वर्ष और उससे अधिक आयु) को अलग, विशेष और व्यापक स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने के लिए 2010-11 में एनपीएचसीई शुरू किया गया था।
कार्यक्रम का उद्देश्य प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर निर्धारित चिकित्सालयों द्वारा निर्धारित क्षेत्रीय ज्येष्ठ चिकित्सा केन्द्रों (आरजीसी), जिला अस्पतालों में 10-बिस्तर वाले जेरियाट्रिक इकाइयां, सभी समुदाय स्वास्थ्य केंद्रों पर पुनर्वास इकाइयों, और प्रशिक्षित चिकित्सा अधिकारियों द्वारा साप्ताहिक जरादिक क्लीनिक स्थापित करना है।
12 वीं पंचवर्षीय योजना (2012-17) के दौरान, एनपीएचसीई के लिए 1,710.13 करोड़ रुपये मंजूर किए गए थे। इसके दोतिहाई (67%), 1,147.56 करोड़ रुपए को जिला स्तर तक रखा गया था और 562.57 करोड़ रूपए की उन्नत स्तरीय गतिविधियों जैसे उन्नत सलाहकार देखभाल और निदान को राज्य स्तर के लिए।

फोटो और लेख साभार: इंडियास्पेंड