भारत के फिल्म और टेलीविजन संस्थान के नए अध्यक्ष बने अनुपम खेर

फोटो साभार: विकिपीडिया

अभिनेता अनुपम खेर पुणे स्थित भारत के फिल्म और टेलीविजन संस्थान(एफटीआईआई) के नए अध्यक्ष चुने गए है।
62 वर्षीय खेर से पहले टीवी अभिनेता गजेंद्र चौहान इस पद पर थे, जिन्हें नौ जून 2015 में नियुक्त किया गया था। वहीं, गजेंद्र चौहान का कार्यकाल 3 मार्च 2017 को खत्म हो गया था। अपने 14 महीने के कार्यकाल के दौरान गजेंद्र चौहान सिर्फ एक बार ही संस्थान में किसी बैठक में शामिल होने गए थे। यही नहीं, चौहान को एफटीआईआई का अध्यक्ष बनाए जाने पर छात्रछात्राओं ने उनका काफी विरोध भी किया गया था। 139 दिनों तक एफटीआईआई के विद्यार्थियों ने हड़ताल की थी, जिनमें से कुछ छात्रों ने अनशन पर भी रहे थे। चौहान की काफी आलोचना उनके कैंपस से बाहर रहने को लेकर भी हुई थी।
अनुपम को साल 2004 में पद्मश्री और 2016 में पद्म भूषण पुरस्कार से नवाजा जा चुका है। वह सारांश, डैडी, रामलखन, लम्हे, खेल, दीवाने, दिल वाले दुल्हनिया ले जाएंगे और मैंने गांधी को मारा सरीखी फिल्मों में अपनी दमदार भूमिका निभाने के लिए आज भी जाने जाते हैं।
अनुपम खेर की नियुक्ति पर अब वाद-विवाद शुरू हो गया है। चर्चा की एक बिंदु ये है की खेर भाजपा के वाचिक रहे हैं, ख़ास कर सोशल मीडिया पर। साथ ही उनकी पत्नी, किरोन खेर, भाजपा की सदस्य और सांसद भी हैं। एक और मुद्दा ये भी उठाया गया है की जब अनुपम खेर एक निजी अभिनेता स्कूल चलाते हैं, तो क्या एक सरकारी संस्था उन्हें चलने चाहिए? आपको बता दे, की अनुपम खेर ऐक्टिंग स्कूल एक निजी संस्था के अध्यक्ष भी अनुपम खेर ही हैं।