बेटी विमान चालक और माँ विमान परिचारिका, एक भावुक कहानी

साभार: विकिपीडिया

बेंगलुरु से मुंबई की एयर इंडिया की एक फ्लाइट मुंबई उतरने वाली थी तब, तय समय से देरी के साथ कैप्टन परेश नेरुरकर ने एक और मेसेज दिया, जिससे कई यात्रियों की आंख में आंसू भी आ गए।

कप्तान ने घोषणा की, ‘विमान की सबसे सीनियर एयरहोस्टेस पूजा चिंचानकर 38 साल की सेवा के बाद आज फ्लाइट की लैंडिंग के साथ रिटायर होने जा रही हैं। उनकी विरासत अब आगे उनकी बेटी अश्रिता आगे लेकर जाएंगी। अश्रिता इस वक्त इसी फ्लाइट के कॉकपिट A-319 मुंबई में बतौर को-पॉयलट मौजूद हैं।’

इस घोषणा के बाद विमान में मौजूद यात्रियों ने तालियों की गड़गड़ाहट के साथ पूजा का स्वागत किया गया। मुंबई एयरपोर्ट पर फ्लाइट लैंडिंग के वक्त भी पूजा ने यात्रियों को मुस्कान के साथ विदा किया।

पूजा कहती हैं कि 38 साल पहले उन्होंने बतौर एयरहोस्टेस एयर इंडिया जॉइन किया था और उस वक्त ही उन्हें महिाल पायलट काफी आकर्षित करती थीं। पूजा और अश्रिता की आखिरी फ्लाइट पर एयर इंडिया ने ट्वीट कर बधाई दी।