बेकसूर लिहिन जान

इहालाबाद शहर, कौंधियारा थाना, गांव खूझी। हिंया के रहैं वाली रूपा के शादी जिला चित्रकूट, ब्लाक मऊ, कस्बा बरगढ़, गांव सेमरा मा संजय के साथै सन् 2005 मा भे रहै। संजय शुरू से ही रूपा का मारत रहै। मारपीट करैं से वहिका जी नहीं भरा तौ 18 मार्च 2014 का ससुराल वाले रूपा के आगी लगा दिहिन या कारन रूपा मरगे। यहिके दरखास बरगढ़ थाना मा लिखाइगे, पै कउनौ सुनवाई नहीं भे आय। या कहिस रूपा का भाई राजेश पाल।
या समस्या का लइके बरगढ़ थाना के पुलिस वाले उमेश चन्द्र शर्मा से बात कीनगे। वहिकर कहब हवै कि लाश का पोस्ट मार्टम कर्वी मा होइगा हवै। मइके पक्ष वाले जउन करिहैं वहै होइ।
रूपा के भाई राजेश का कहब हवै कि मोर तीन बहिनी अउर मैं अकेला भाई हौं। जबै हम छोट रहेन तबहिने महतारी गोमती मरगे रहै। बाप मूलचन्द्र पाल ईंटा गारा का काम कइके हमार पालन पोषण करिस। यहिके बाद रूपा के शादी चित्रकूट जिला, मऊ ब्लाक, के गांव सेमरा मा संजय के साथै सन् 2005 मा करिस रहै। संजय रूपा का मारत रहै। या कारन एक बरस तक वहिका अपने साथै मइके मा राखे रहेन। यहिके बाद संजय अउर वहिके महतारी बाप समझौता कइके अपने साथै लइगें, पै उंई रूपा के साथै फेर वहिनतान करैं लाग। 18 मार्च 2014 का तौ हद होइगे। मोर बहिनी तौ बे मउत मरगे। वहिके तीन छोट-छोट बच्चा हवैं। हमार बाप बहुतै गरीबी मा हम चारौ बहिनी भाई का पाल पोष के बड़ा करिस रहै, पै रूपा के ससुराल वाले हमार गुडि़या जइसे बहिन के जान लइ लिहिन।
रूपा के मनसवा संजय कहिस कि वा खाना बनावत रहै। पता नहीं कि कसत आगी लाग गे हवै। सोंचे वाली बात तौ या हवै कि आखिर मेहरिया अउर बिटियन के ज्यादातर खाना बनावैं मा आगी लाग जात हवै। जबै कि होटल अउर घर मा मनसवा भी खाना बनावत हवैं। उनके कत्तौ आगी नहीं लागत हवै।