बूंद-बूंद का तरसैं जानवर, सुखान परे तालाब

महोरछा का माडल तालाब परा सुखान
महोरछा का माडल तालाब परा सुखान

जिला बांदा। बांदा जिला मा कुल 1983 तालाब हैं। विकास विभाग मा ब्लाकन से आई रिपोर्ट के हिसाब से कुल 1161 तालाब भर चुके हैं। जेहिसे अनुमान लगावा जा सकत है कि अबै यतना ज्यादा तालाब सूखे परे हैं। गभ्भीर गर्मी के चलत जानवरन खातिर तालाब भरावा जाब बहुतै जरूरी है।
ब्लाक नरैनी, गांव महोरछा। हेंया के राजू अउर विनोद कहत हैं कि माडल तालाब सुखान परा है। या तालाब का कतौ नहीं भरावा जात आय। बरसात का पानी जबै तक भरा रहत है तबै तक चलत है। महुआ ब्लाक, गांव महुआ के राजाराम का पुरवा का तालाब सुखान परा है। हेंया के सहेलिया कहत है कि अगर तालाब मा पानी होत तौ जानवरन के पानी पियैं का आराम रहत। बबेरू ब्लाक के अलिहा गांव का तालाब सुखान परा है।
ब्लाक तिन्दवारी, गांव खप्टिहा कला के प्रेम तालाब, मनुई तालाब, सोनखरी तालाब अउर डबरा तालाब सुखान परे हैं। राजकीय नलकूप खराब होय के कारन इनमा पानी नहीं भरा जा सकत आय। पदारथपुर, भवानीपुर जइसे गांव के मड़ई आपन जानवरन का पानी पियावै खातिर तीन किलोमीटर दूर यमुना नदी लई जात हैं।
डी.एम. शीतल वर्मा के अध्यक्षता मा 6 मई 2014 का जिला के अधिकारिन के बइठक कीन गे। बइठक मा डी.एम. जिला के सबै तालाबन का भरावैं का आदेश दिहिन रहैं, पै तालाब अबै भी खाली हैं।

ब्लाक मा कुल तालाबन के संख्या अउर भराये गे तालाब-बड़ोखर खुर्द ब्लाक मा 180 तालाबन मा 132 तालाब भर गें हैं। महुआ ब्लाक के 315 अउर नरैनी के 301 तालाबन मा से कुछ ही तालाबन मा पानी भर पावा है। यहिनतान तिन्दवारी ब्लाक के 240 मा से 113, जसपुरा ब्लाक के 147 मा से 95, कमासिन ब्लाक के 262 मा से 132, विसण्डा ब्लाक के 239 मा से 229 अउर बबेरू ब्लाक मा 299 तालाबन मा से 207 तालाब भरे जा चुके हैं। बाकी तालाब अबै भी खाली हैं।