बीज न हुवय से पिछरत खेती

गेहूं के बीज के ताई किसान काफी परेषान अहैं कि गोदाम पै बीज नाय मिलत बाय बुवाई कब होये। दुसरी तरफ यतना तेज कुहरा से किसानन मा फसल कै खराब हुवय कै डर बना बाय।
फैजाबाद अउर अम्बेडकर नगर मा कुछ राजकीय कृषि गोदाम पै बीज न मिलै से किसान का गोदाम कै चक्कर काटै का परत बाय। बोवाई पिछर जाए के कारण काफी चिन्ता हुवत बाय। गन्ना काटके गेहंू बुवाई के ताई खेत तैयार कीन गै। गोदाम पै नई-नई प्रजति कै बीज आवाथै यही सोंचके किसान गोदाम कै बीज लै जाथिन। लकिन बीज कम मात्रा मा आवै के कारण पूरा नाय पड़त। एक तरफ किसानन का चिन्ता बनीं बाय कि यतनी ठंड अउर पाला पड़ै से फसल खराब होय जाये। जउने प्रकार से बीज बोवा जाये वही प्रकार से फसल कै पैदावार होये। खेती समय पै करे पै पैदावार ज्यादा हुआथै। जवन खेतिहर किसान रहाथे वै पहिले बीज लै जाथै जेसे छोट किसान पीछे रहि जाथे।
सरकार कृषि गोदाम खोलाथै जेसे किसानन का सही से बीज मिल सकै। किसान समय पै गेंहू कै बुवाई कै सकैं? लकिन यस नाय बाय। न समय पै मिलै न ही बोवाई होय पावै। किसान केतना हंगामा बीज के ताई कराथिन तउने पै बीज नाय मिलत। हां ई बात जरूर बाय कि हंगामा करै से बीज न मिल जाये। लकिन कर्मचारी भी ध्यान दियै कि सब किसानन का बीज मिल सकै? आपन पल्ला न झाडैं़ कि जिला पै बीज नाय बाय ।