बिना बिजली कैसे हुवय धान कै रोपाई?

फैजाबाद अउर अम्बेडकरनगर मा पिछले चार महीना से बिजली व्यवस्था यतनी खराब बाय कि कउनौ काम नाय होय पावत बाय। मनई बिजली बराबर आपूर्ति करै के ताई जगह-जगह मांग करत अहैं। फिर भी कउनौ सुधार नाय हुवत बाय।

यहि समय किसान धान कै रोपाई करत अहैं। बिजली से सारा काम हुवय का बाय। अगर बिजली न आये तौ खेत मा पानी कैसे भरा जाये। जेसे बिजली बिना सारे काम बाधा बनिगै बाय। जवन दुई चार घंटा बिजली अउतिव बाय एकदम धीम। जउने से कउनौ काम नाय होय पावत। ज्यादा आबादी मा कम बोल्टेज कै टांसफार्मर लागै से बार.बार जला रहाथै। दसौ दिन नाय चलत फिर जलि जाथै। यइसे मा किसान बिजली तौ कनेक्षन कराय लियाथै लकिन वकै भरपूर प्रयोग नाय कै पउतिन। किसानन का बिजली लेहे कवन फायदा? जब बराबर बिजली न मिलै अउर बिल हर महीना आवाथै लकिन काम नाय हुवत। यहि समय धान के रोपाई मा पानी कै बहुत जरूरत बाय काहे से बिना पानी कै धान कै रोपाई कइसे होये। जेकरे इंजन कै साधन बाय ऊ इंजन से खेत भर के धान लगाय ले जेकरे साधन नाय बाय ऊ दुसरे के बिजली के सहारा बाय। मनई बिजली रहाथै तौ पहिले आपन सींचाथै। तब दुसरे का पानी दियाथै। अगर विजली न आये तौ किसान काव करिहैं।

शासन – प्रशासन से पता चलाथै कि कनेक्षन धारक के अनुसार टांसफार्मर धारक के अनुसार टांसफार्मर लगुवावा जाथै। तौ काहे का बार.बार टांसफार्मर जलि जाथै? अगर यही तरह लाइट कै हाल रहा तौ कवन मेर खेती होये? भारत कृषि प्रधान देष माना जाथै लकिन समस्या के कारण फसल नाय होय पावत।