बिना चाहरदीवारी और शौचालय के, असुरक्षित हैं चित्रकूट जिले के प्राथमिक विद्यालय दुवारी के बच्चे

जिला चित्रकूट,ब्लाक कर्वी मा दस साल पहिले बिना बाउंड्री के प्राथमिक विद्यालय दुवारी गांव मा बनावा गा रहै। या स्कूल मा बच्चन का जान का खतरा हवै।  स्वच्छता का पाठ पढ़ावै वाले या स्कूल के शौचालय मा ताला लाग हवै। जेहिके कारन बच्चा तालाब के लगे शौच खातिर जात हवै, तौ पांव फिसले का डेर बना रहत हवै।
सहायक अध्यापक संगीता सिंह का कहब हवै कि जबै से स्कूल बना हवै, तबै से बाउंड्री नहीं आय। यहै कारन बच्चा तालाब के लगे खेलत हवैं,तौ डेर बनी रहत हवै अउर सड़क के कारन भी खतरा हवै। तीन चार दरकी दरखास दइ चुके हन। सबीना अउर शानू का कहब हवै कि स्कूल मा शौचालय बना हवै पै खोलत नहीं आय। यहै कारन हमें तालाब के लगे जाये का पड़त हवैं। बच्चा कत्तौ-कत्तौ पानी मा गिर जात हवैं। पूजा बताइस कि हम बच्चा शौचालय की कउनौ से शिकायत करित हवै, तौ बाद मा मास्टर हमें मारत हवैं।
शिक्षा विभाग बाबू सत्येन्द्र सिंह का कहब हवै कि हिंया ढ़ाई सौ से ज्यादा स्कूलन मा बाउंड्री नहीं आय। जबै रुपिया मिली तबै बाउंड्री बनाई जई। शौचालय बच्चन के इस्तेमाल के खातिर आय ,पै बच्चन का इस्तेमाल न करै दीन जई तौ वहिके खिलाफ नोटिस भेजी जई।    

रिपोर्टर- सहोद्रा

Published on Mar 20, 2018