बिजली के समस्या जस के तस

चित्रकूट जिला मा इनतान के गांव हवैं जहां मड़ई बांस के लकड़ी गाड़ के बिजली कनेक्षन लीने हवै। कत्तौं देखैं खातिर बिजली के खम्भा अउर तार लाग हवैं, पै बिजली का ट्रान्सफारमर नहीं धरा गा हवै तौ कत्तौ बिजली के कटौती से मड़ई परेषान हवैं। यहिकर उदाहरण कर्वी ब्लाक का गांव बनकट का मुलायम नगर अउर नई दुनिया अउर मऊ ब्लाक का गांव गोइया खुर्द का मजरा हड़हा हवै। बिजली कटौती से तौ कउनौ कस्बा अउर गांव नहीं अछूता हवै।
कर्वी बलाक का गांव बनकट का मुलायम नगर, नई दुनिया मा लगभग पचास बरस से पांच हजार लोग बांस के लकड़ी गाड़ के बिजली लीने हवै। मड़़इन का डेर बना रहत हवै कि आंधी अउर तेज हवा मा बांस के लकड़ी गिर न जायें। यहिके खातिर मड़ई विधायक से लइके बिजली विभाग मा लिखित दरखास दइ चुके, पै समस्या जस के तस हवै। दूसर कइती मऊ ब्लाक का गांव गोइया खुर्द का मजरा हड़हा मा दुइ बरस से देखैं खातिर बिजली के खम्भा अउर तार लाग हवै, पै ट्रान्सफारमर नहीं धरा गा। बिजली कटौती भी मड़इन का जियब मुष्किल कीने हवै। चुनाव के समय तौ नेता मंत्री बड़े बड़े वादा करत हवैं कि हमका वोट देहौ तौ बिजली चैबिस घंटा रही, जबै से लोक सभा चुनाव भा हवै बिजली चार चार घंटा का गोल रहत हवै। इनतान के गर्मी मा मड़ई बेहाल हवै। अब सवाल या उठत हवै कि देष के आजादी का चैंसठ बरस पूर होय वाला हवै, पै मड़ई बिजली जइसे के आम समस्या से जूझत हवंै। अगर बिजली विभाग मा इनतान के समस्या खतम करै खातिर कहा भी जात हवै तौ विभाग वाले या कहिके आपन पल्ला झाड़ लेत हवैं कि सरकार के लगे बजट नहीं आय तौ फेर विभाग वाले बिल बराबर भेजत हवै। का इनतान के गम्भीर समस्या के बारे मा सरकार विभाग वालेन से कत्तौं जवाबदेही नहीं लेत हवै। या बात का ध्यान देब जरुरी हवै। तबहिने बिजली के समस्या खतम होइ।