बिजली कटौती अउर फर्जी बिल भरैं के शिकाइत

बांस बल्लियन मा लटके तार अउर दरखास दें आये मड़ई
बांस बल्लियन मा लटके तार अउर दरखास दें आये मड़ई

बेसमय बिजली कटौती अउर बिल कटावैं के बाद भी बिल आवैं से मड़ई परेशान हैं। मड़ई प्रधान से लइके बिजली विभाग तक दरखास दिहिन हैं।

मोहल्ला गौरा बाबा के पास आई रजनिया कहत है कि तीन साल पहिले बिजली विभाग अतर्रा से कनेक्शन कटा दीने रहौं, पै विभाग वाले रसीद नहीं दिहिन अउर जून 2014 मा बीस हजार रूपिया का बिल भेज दिहिन। मोर मनसवा मर चुका है अउर मोहिका सांस के बीमारी है। मैं कउन कमाई मा बिल भरौं। अतर्रा विद्युत उपखण्ड का एस. डी.ओ. रविन्द्र कुमार कहत है कि रजनिया के घर मा मीटर लाग है। अगर कनेक्शन कटावैं चाहत है तौ दरखास दे। शहर बांदा के अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के लगभग दस विद्यार्थी 14 जुलाई 2014 का एस.डी.एम. का दरखास दिहिन। जेहिमा उंई बिजली कटौती बंद करै अउर हेल्प लाइन शुरू करैं के मांग करिन हैं। जिला बांदा ब्लाक बड़ोखर खुर्द गांव पल्हरी का मजरा किलेदार का पुरवा। 11 जुलाई 2014 का हेंया के लगभग पचास मड़ई डी.एम. का दरखास दिहिन कि बिजली का एक खम्भा लटका है अउर दस के.वी. पावर के ट्रंास्फारमर मा 65 कनेक्शन लाग हैं। या मारे ट्रांस्फारमर तुरतै फुंक जात है। टंªास्फारमर फुंका रहैं से बिजली रहतै निहाय पै बिल तीन-तीन महीना का इकट्ठा आ जात है। समाजवादी पार्टी का जिला अध्यक्ष शमीम बांदवी कहत हैं कि जांच कइके कारवाही कीन जई। जिला बांदा ब्लाक बबेरू मोहल्ला मनोरथ थोक। हेंया का शारदा प्रसाद का कहब है कि वहिके नाम कनेक्शन है। बिजली विभाग वाले बिन बताये कनेक्शन काट दिहिन। जबै कि वा बिल बराबर भरत है।