बार-बार होई छई सर्वे

 भूमिहीन महादलित
भूमिहीन महादलित

जिला सीतामढ़ी, प्रखण्ड बथनाहा अउर रीगा दुनु प्रखण्ड में भूमिहीन महादलित के सर्वे हो रहल हई। इ सर्वे 20 जनवरी 2015 से शुरू भेलई। जे विकास मित्र करई छथिन।
बथनाहा प्रखण्ड के गांव कोईली के रामहृदय राम, सखिया देवी, देवेन्द्र राम, फूलो देवी, भोला देवी सब लोग कहलथिन कि हम सब लोग त महादलित छी अउर हमरा सब के दु-तीन धूर जमीन हई। जेईमें मुश्किल से एक घर हई। केना रहु? दु बेर विकास मित्र लिख के ले गेलथिन कि जमीन मिलतई लेकिन कहां मिलल? एईसही रीगा प्रखण्ड के रमनगरा गांव के रीता देवी, सुमित्रा देवी सब कहलथिन कि सरकार केतेक बेर सर्वे करवलथिन त कहां कुछ भेलई। ऐई बेर महिला के नाम से सर्वे हो रहल हई। ऐहु बेर जमीन मिलतई कि न?
बथनाहा के विकस मित्र रामप्रताप राम, गायत्री देवी कहलथिन कि सर्वे करे के लेल आदेश होयल हई। लेकिन चिठ्ठी न मिलल हई।
रामनगरा के विकास मित्र अजय कुमार कहलथिन कि बिहार सरकार के योजना हई बास भूमि रयन बसेरा योजना के अंतर्गत महादलित जाजि कि महिला के नाम से इ सर्वे होई छई।
रीगा अउर बथनाहा प्रखण्ड के अंचल पदाधिकारी सूर्यकांत प्रसाद कहलथिन कि अभी महादलित के लेल अभियान चलल हई। ऐई के तहत लाभार्थी विकास मित्र के इहां आवेदन जमा करई छथिन। अब ऐकरा बाद की होतई ऐई के बारे में हम न बता सकई छी।