बाढ़ से असम, मध्यप्रदेश और यूपी हुए प्रभावित

flood f

असम

ब्रह्मपुत्र नदी खतरे के निशान से ऊपर, असम में बाढ़ से 90,000 लोग प्रभावित, लखीमपुर, धेमाजी, नौगांव, जोरहाट, गोलाघाट, मौरीगांव और बिश्वनाथ जिलों में 88,000 से ज्यादा लोग बाढ़ से जूझ रहे हैं।

मंदाकिनी

मन्दाकिनी नदी में उठे उफान से रामघाट में दर्जनों दुकानों सहित मठ-मंदिर डूब गये.

सतना

मध्यप्रदेश की नर्मदा, पार्वती, चंबल , केन, तवा, तमस और सुनार नदियाँ उफान पर हैं. तेज़ी से आई बाढ़ के कारण कई गांव पानी में डूब गये हैं. जिसके कारण वहां सम्पर्क टूट गया है. राहत कार्य के लिए सेना को बुलाया गया है. तीन दिन की बारिश में तिजेवा, कृपालपुर, उचवा टोला गांवों को लगभग डूबो दिया है.

राहत कार्य सामग्री के लिए नावों से सामान पहुँचाया जा रहा है साथ ही राहतकार्य के लिए जबलपुर से सेना को बुलाया गया है.

इस भारी बारिश और बाढ़ के कारण करोड़ो के बने बाँध भी ढह गये हैं. जिसमें सेरोह बाँध, जिसकी लागत 27 करोड़ थी और बिलपुरा गांव, जिसकी लागत 11 करोड़ थी.