बांसुरी की मधुर धुन के साथ कुछ जीवन ज्ञान भी, मिलिए अम्बेडकर नगर जिला के रवीश चन्द्र मौसम से

जिला अम्बेडकरनगर, ब्लाक भीटी, गांव महमूदपुर हिंया के रवीशचन्द्र मौसम बचपन से बांसुरी बजावाथे।आज वै अपने क्षेत्र कै बांसुरी वादक अहैं। संगीत के दुनिया मा आपन नाम कमाब इनकै सपना बाय।इनके तीन गेदहरा बाटे उनहूँ का वै गायक बनावै चाहाथे। इनके बांसुरी के धुन से मनई कै मन एकदम खिल उठाथै।
रवीश चन्द्र मौसम बांसुरी वादक कै कहब बाय कि सात साल के उम्र से 1985 से ही बांसुरी बजावत हई। गिटार, बांसुरी, हारमोनियम,गीत लिखना कम्पोज करना या अरेंज करना सब कुछ हम बिबिध भारती सुनके सीखे हई। मुंबई जाएके छोटा मोटा रोजगार कै ली थी। म्यूजिक कै ज्यादा शौक बाय। अबहीं तक हमार आठ गाना माता जी कै निकरा बाय। मंडल स्तर तक काम कै चुका हई। मुंबई मा हम म्यूजिक कम्पोज के ताई ट्राई करत हई। लेपटोप अउर कंप्यूटर मा गाना कै प्रोग्रामिंग करत हई। हिंदी गाना निकारै के प्रयास मा हई।
रवीश चन्द्र कै कहब बाय कि जवन हमार गाना बाय वका अरेंज करब, प्रोग्रामिंग करब, वक्रे बाद आपन गाना सबका देखावै कै कोशिस करब।

रिपोर्टर- आरती और प्रियंका

11/01/2017 को प्रकाशित