बांदा में डकैतों का आतंक

जिला बांदा। बांदा में डकैतों का डर खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। 14 मार्च 2013 को डकैत बलखड़िया ने फतेहगंज क्षेत्र के ग्राम गोबरी गोडरामपुर के कोल्हुआ जंगल में रागिया गिरोह के एक डाकू राम सिंह की दिनदहाड़े हत्या कर दी। इससे पहले खुरहंड कस्बे में ढाई साल के एक बच्चे का 11 मार्च को अपहण हुआ था। 15 लाख की फिरौती देने के बाद ही बच्चे को छुड़ाया जा सका। इसमें भी डाकुओं का गिरोह शामिल था।
जंगल में बलखड़िया ने अचानक राम सिंह पर गोलियों की बौछार कर दी। राम सिंह पर ढाई लाख का ईनाम था। हालांकि क्षेत्र के लोगों ने बताया कि घटना होने से कुछ देर पहले ही दोनों डकैत एक साथ बैठ कर खा पी रहे थे। सुबह जब गांव वालों ने लाष देखी तो फतेहगंज थाना को सूचना दी। पुलिस ने लाष को सील कर पोस्टमार्टम को भेजा।
उधर 11 मार्च को हुए अपहरण मामले में खुरहण्ड चैकी के दरोगा मथुरा चैबे ने बताया कि 16 मार्च 2013 को दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है। एक बदमाष प्रमोद सिंह जुगुल का पुरवा का और दूसरा बदमाष राघवेन्द्र सिंह खुरहण्ड का है।