बांदा जिले के माटा गांव में गड्ढे तो खोद लिए गए लेकिन शौचालय के लिए नहीं हैं पैसे

जिला बांदा,ब्लाक तिन्दवारी, गांव माटा स्वच्छ भारत मिशन के तहत ग्राम पंचायत का 15 अगस्त तक खुले मा शौच मुक्त करै के घोषणा कीन गे है। यहै कारन हेंया के मड़इन का चार महीना पहिले शौचालय खातिर गड्डा खोदे का कहा गा रहै।जिला बांदा,ब्लाक तिन्दवारी, गांव माटा स्वच्छ भारत मिशन के तहत ग्राम पंचायत का 15 अगस्त तक खुले मा शौच मुक्त करै के घोषणा कीन गे है। यहै कारन हेंया के मड़इन का चार महीना पहिले शौचालय खातिर गड्डा खोदे का कहा गा रहै। अब कहा जात है कि मड़ई आपन शौचालय खुदै बनवावै जउन मड़ई गड्डा खोदाइन है उंई गड्डा के कारन परेशान है काहे से बरसात मा वहिमा पानी भर जात है जेहिसे कउनौ भी डूब सकत है प्रीति अउर रिंकी बताइन कि जांच करै वाले आये रहै तौ कहत रहै अपने से शौचालय बनवा लेव तबै 12 हजार रुपिया दीन जई। जउन गड्डा  खोदा गें रहै वहिमा हमार छोट बहिनी गिर गें रहै अउर एक मोटर साइकिल भी घुस गे रहैं। टट्टी खातिर हमै बहुतै दूरी जायें का पड़त है। भूरा अउर सभाजीत बताइन कि हम नहीं  पहिचानित कि को जांच खातिर आवा रहै उंई आधार कार्ड मांगत रहै। गरीबन के लगे येत्ता रुपिया नहीं आय तौ कसत आपन शौचालय बना लें। का गरीब मड़ई  चोरी ड़कैती कइके शौचालय बनवा लें। प्रधान बिन्दा प्रसाद का कहब है कि डी.एम.आदेश दिहिस है कि 15 अगस्त तक गांवन का शौच मुक्त होवा चाही पै मोरम न मिलै के कारन शौचालय अधूरे पड़े है। वी डी ओ रजनीश  कुमार शुक्ला का कहब है कि अबै तक पूर जिला मा 17 हजार शौचालय बन गे है सरकारी नियम मा कहा गा है कि मड़ई शौचालय अपने से बनवावै तौ उनके  खाता मा 12 हजार भेंज दीन जई। जउन गरीब है उंई काम शुरू  करिहैं तौ 6 हजार पहिले फेर 6 हजार बाद मा भेजे जइ हैं।

रिपोर्टर- शिवदेवी

Published on Jul 20, 2017