बाँदा जिले के स्योढ़ा में अस्पताल के नाम पर इतनी बड़ी इमारत तो खाड़ी हो गई पर सुविधाएं अभी भी शून्य हैं

बांदा जिला के स्योढ़ा गांव मा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र है जेहिका सरकार करोड़न रुपिया के लागत से बनवाइस है। देखै का तौ येत्ता बड़ा अस्पताल बना है पै सुविधा के नाम मा जीरो है। मड़ई कइयौ दरकी सीएमओ का लिखित दिहिन है जेहिके पूरी फाइल बन गें होई पै आज तक प्रशासन कउनौ ध्यान नहीं दिहिस आय।
सावित्री का कहब है कि लड़का का गोली देत है तौ नहीं खात आय सिरप होय तौ पी लें। हेंया कउनौ व्यवस्था नहीं आय। नूरजहां बताइस कि डिलेवरी खातिर एम्बुलेंस बोलाइत है तौ समय से नहीं आवत आहीं, तबै हम मजबूरी मा आपन साधन से जइत है। बाबू का कहब है कि अस्पताल मा पिए के पानी के कउनौ सुविधा नहीं आय मरीज बाहर लाग हैन्डपम्प से पानी पियत हैं। इंजेक्शन लगावै मा सौ रुपिया मांगत है अउर बाहर से मंगा के लगावत है।डिलेवरी के सुविधा न होय के कारन डिलेवरी वालेन का लउटा देत हैं।
खालिद का कहब है कि या अस्पताल बसपा सरकार के समय से बना आय पै कउनौ सुविधा नहीं आय। डिलेवरी खातिर बांदा जाये का पड़त है। अस्पताल के शिकायत करै मा आश्वासन बस दीन जात है।

रिपोर्टर- गीता देवी

Published on Apr 6, 2018