बाँदा के जौरही गाँव में विद्यालय में बाउंड्री तक नहीं, पेड़-पौधों को रौंद कर चली जाती हैं गाड़ियाँ

जिला बांदा, ब्लाक बड़ोखर, गांव जौरही मा 1970  मा पूर्व माध्यमिक विद्यालय बना रहै, पै बाउंड्री अबै तक नहीं बनी आय। सड़क किनारे स्कूल होय से हर समय दुर्घटना के डेर बनी रहत है।
शुभम यादव का कहब है कि हमार स्कूल के मैदान से गाड़ी वाले हेंया से मोड़त है, जेहिसे पेड़-पौधा टूट जात है अउर जानवर भी पेड़-पौधा खा डालत है। चंदा बताइस कि स्कूल में रोड मा है तौ छोट-छोट बच्चा भागत है तौ एक्सीडेंट होय का खतरा रहत है। श्वेता का कहब है कि हमार स्कूल मा बाउंड्री बन जायें तौ बच्चा आराम से खेल सकत है अउर स्कूल मा साफ-सफाई भी रहि।
हेडमास्टर का कहब है कि स्कूल मा जानवर बहुतै गन्दगी फइलावत हैं अउर पेड़-पौधा भी नहीं लगा पाइत आय। एक्सीडेंट का खतरा बना रहत है अउर स्कूल मा कइयौ दरकी चोरी भी होई चुकी है। बाउंड्री खातिर कइयौ दरकी लिख के दइ चुके हौं पै सुनवाई नहीं होत आय।
एबीएसे जगतराम राजपूत का कहब है कि विभाग का सुचना दीने हौं, जबै बजट आ जई तौ बाउंड्री बनवा दीन जई।

रिपोर्टर- शिवदेवी

Published on Mar 9, 2018